"उल्हास विकास" ठाणे जिले का पहला हिन्दी न्यूज एंड्रॉयड मोबाइल ऐप बना
Click on the Image to Download the App from Google Play Store

andriod app

अंबरनाथ में लाॅकडाऊन पूरी तरह फेल, 63 नए मरीज कुल संख्या 1931

एक्टिव मरीज 457, आज चार की मौत
अंबरनाथ में कोरोना रोग से ठीक होने वालों की संख्या में लगातार बढ़ोत्तरी हो रही है। गुरुवार को 78 मरीज ठीक हुए हैं। आज 63 कोरोना ग्रस्तों के मिलने से कुल संख्या 1931 हो गई है। एक्टिव मरीज 457 हैं। जबकि ठीक होने वालों की कुल संख्या 1422 हो गई है। 73.64 प्रतिशत रोगी ठीक हो कर घर गए हैं। ऐसी जानकारी अंबरनाथ नगरपरिषद द्वारा भेजे गए प्रेस विज्ञप्ति में दर्ज की गई है लेकिन एक दिन में 63 मरीजों का मिला भी चिंता को बल दे रहा है। कोरोना से मरने वालों की संख्या भी कम नहीं है। 24 घंटे में चार की मौत हुई है। मृतकों की संख्या 50 के पार 52 हो गई है। मृतकों की संख्या 2.69 प्रतिशत है। आज तक कुल 3702 नागरिकों की जांच की गई है। गुरुवार को 42 का स्वेब कलेक्शन करके जांच के लिए भेजा गया है। 156 की रिपोर्ट आना बाकी है। डेंटल कोविड अस्पताल में 185 रोगी है। अन्य अस्पताल में 127 तो होम क्वारनटाईन में 145 मरीज है। आज वुलन चाल सनराईज अपार्टमेंट में चार रोगी मिले हैं। निसर्ग ग्रीन पूर्व से 3 रोगी मिले हैं।
राज्य आरोग्य मंत्री का बदलापुर दौरा
महाराष्ट्र राज्य के आरोग्य मंत्री राजेश टोपे ने गुरुवार को दौरा करके बदलापुर अंबरनाथ में बढ़ रहे कोरोना मरीजों के बारे में एक बैठक का आयोजन बदलापुर में किया। बढ़ते मरीजों पर उन्होंने चिंता व्यक्त करते हुए प्रशासन को कड़क आदेश दिए। कोरोना मरीजों से ज्यादा रकम लेने वाले निजी अस्पतालों पर कार्रवाई करने के संकेत उन्होंने दिए। हरणे आयुर्वेदिक महाविद्यालय को कब्जे में लेकर आक्सीजन बेड का प्रबंध अंबरनाथ, बदलापुर के मरीजों के लिए किया जाएगा ऐसी घोषणा उन्होंने की है। बदलापुर में आज 51 नए बाधितों के मरीज मिलने से यहां कोरोना ग्रस्त मरीजों की संख्या 858 हो गई है। यहां पर 15 की मौत हुई है। जबकि एक्टिव मरीज 447 हैं और 396 मरीज ठीक हुए हैं।
अंबरनाथ में पुलिस ने टू व्हीलर व रिक्शा पर की कार्रवाई

अंबरनाथ। अंबरनाथ पश्चिम के मुख्य केबी महामार्ग महात्मा गांधी विद्यालय चौक पर दोपहर में भारी पुलिस बंदोबस्त के साथ वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक की निगरानी में बाईक, आटो रिक्शा एवं वाहनों पर कार्रवाई की गई। पूरी तरह लाॅकडाऊन होते हुए भी आजादी से लोग वाहनों पर घूम रहे थे उन पर कार्रवाई की गई है। पुलिस ने एक प्रेस विज्ञप्ति जारी करके ये जानकारी दी है कि 68 टू व्हीलर, 9 रिक्शा, 17 सीआरपीसी 149 अनुसार कार्रवाई, 22 मोटर सायकल की चाबियां निकालकर उनको समझ दी गई है। दंडात्मक कार्रवाई भी की गई है। चौक को पूरी तरह से नाकाबंदी कर दिया गया था। दो पुलिस निरीक्षक, 1 सह.पु.नि. 1 उपनि., 8 कर्मचारी, 6 एसआरपीएफ कर्मचारी तैनात किए गए थे। ऐसी जानकारी अब रोजाना की जाएगी। ऐसा वपुनि संजय धुमाल ने कहा है। उन्होंने शहरवासियों से कहा है कि घरों में ही रहे। घर से बाहर ना निकले, बिना जरूरत के अगर कोई बाहर निकला है तो उस पर कार्रवाई की जाएगी। यातायात पुलिस ने कई टू व्हीलर पर दंडात्मक कार्रवाई की है। कोरोना प्रादुर्भाव को रोकने के लिए जिलाधिकारी ने 10 दिनों का लाॅकडाऊन घोषित किया है। इसके बावजूद लोग घरों से बाहर निकल रहे हैं। इस कारण पुलिस ने उन पर कार्रवाई की है।
अंबरनाथ कोविड अस्पताल एवं आर्चीड सेंटर से
कोरोना मरीजों की कोई शिकायत नहीं, प्रशासन का बढ़ीया प्रबंध

अंबरनाथ। डेंटल काॅलेज कोविड अस्पताल और आर्चीड क्वारनटाईन सेंटर में कोरोना पीड़ितों के साथ अच्छा ट्रीटमेंट किया जा रहा है। यहां से अब कोई शिकायत प्राप्त नहीं हो रही है। शुरू में यहां पर शौचालय की साफ सफाई और भोजन समय पर ना मिलने की शिकायतें प्राप्त हो रही थी लेकिन अब प्रशासन ने उपरोक्त दोनों सेंटर की शिकायत को दूर कर दिया है। आर्चीड में शहर भाजपा का एक पदाधिकारी कुछ दिनों से कोरोना से पीड़ित होकर दाखिल है। उन्होंने यहां से अपना दो वीडियो जारी करते बताया है कि सुबह के नाश्ते में पोहा, दो उबले हुए अंडे, दोपहर में दाल, चावल, भाजी और फल, रात में भी अच्छा भोजन दिया जा रहा है। सुबह और शाम में डाॅक्टर मरीजों को देखने आते हैं। दवाईयां भी समय पर दी जा रही है। उन्होंने अपने वीडियो में शहरवासियों से अपील की है कि वह कोविड 19 संक्रमण से ना घबराएं, यहां से मरीज बड़ी संख्या में ठीक होकर घर जा रहे हैं। कोविड अस्पताल में भी अब कोई शिकायत नहीं आ रही है। यहां पर बच्चों के लिए खिलौने के साथ बड़ों के लिए कैरम खेलने का भी प्रबंध है। जिससे मरीजों का टाईम पास हो रहा है। यहां पर शहर के प्रख्यात 10 डाॅक्टर तीन शिफ्टों में ड्यूटी दे रहे हैं। जिसके कारण कोरोना मरीज ठीक होकर बड़ी संख्या में घर जा रहे हैं। प्रशासक जगत सिंग गिरासे, मुख्याधिकारी प्रशांत रसाल, कोविड 19 नोडल डाॅक्टर नितिन राठोड़, उपमुख्याधिकारी धीरज चौहाण दिन रात परिश्रम कर रहे हैं।
लाॅकडाऊन को सफल बनाने की जरूरत
अंबरनाथ। अंबरनाथ में लाॅकडाऊन का कोई असर दिखाई नहीं दे रहा है। केवल दुकानें बंद दिखाई दे रही है। लोग इसी तरह आ जा रहे हैं। जैसे रोजोना आते जाते हैं। बाईक सवार तो पहले से भी ज्यादा मुख्य सड़कों पर अपनी बाईक दौड़ा रहे हैं। कोरोना की चैन तोड़ने के लिए लाॅकडाऊन लिया गया है लेकिन सड़कों पर चौराहे पर लोगों की भीड़ को देखते हुए ये कहना पड़ रहा है कि कोरोना की चैन टूटेगी कैसे। प्रशासन को पूरी तरह कफर्यू लगाना चाहिए था ताकि लोग बाहर ना निकले। ये देखने में आ रहा है कि लोग बिना मतलब के ही घरों से निकल रहे हैं। उन्होंने पुलिस का कुछ खौफ डर नहीं है। सबसे ज्यादा भीड़ महावितरण कार्यालय पर दिखाई दे रही है जहां लाईट का बिल ज्यादा आने की शिकायत को लेकर एवं लाईट बिल भरने लोग कतार में खडे देखे गए। कईयों के मुंह पर मास्क नहीं। सामाजिक दूरी का कोई ख्याल नहीं, अभी भी समय नहीं गया है प्रशासन को चाहिए कि उन्होंने जिस प्रकार सख्ती से दुकानें बंद कर रखा है। उसी सख्ती के साथ लाॅकडाऊन करें तो कोरोना की चैन टूटेगी। हमारे अधिकारी रोजाना सड़क पर से कार्यालय में आते जाते हैं वह अच्छी तरह समझ रहे हैं कि वह लाॅकडाऊन में कितने फेल हो रहे हैँ, वह ये भी समझ रहे हैं कि केवल व्यापारियों को कोरोना के नाम पर सजा उन्होंने दी है जो भी हो लाॅकडाऊन अगर पूरी तरह सफल रहा तो कोरोना वायरस कम होगा लाॅकडाऊन को सफल बनाने की जरूरत है।


Labels: ,
[blogger]

Author Name

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.