"उल्हास विकास" ठाणे जिले का पहला हिन्दी न्यूज एंड्रॉयड मोबाइल ऐप बना
Click on the Image to Download the App from Google Play Store

andriod app

जल्द कोरोना मुक्त होगा उल्हासनगर, 4 फुट से ऊंची नहीं होगी गणेश मूर्ति, उल्हासनगर में नए मरीज 40, एक्टिव 285, अंबरनाथ में नए मरीज 32, एक्टिव 339

🔺 उल्हासनगर में नए मरीज 40एक्टिव मरीज 285
कोरोना मुक्त 6840, मृत्यु 173कुल संख्या 7298

🔺 अंबरनाथ में नए मरीज 32एक्टिव मरीज 339
कोरोना मुक्त 3915मृत्यु 171, कुल संख्या 4425

🔺 बदलापुर में नए मरीज 59, एक्टिव मरीज 355
कोरोना मुक्त 2921, मृत्यु 59, कुल संख्या 3335

🔺कल्याण-डोंबिवली में नए मरीज 265एक्टिव 3979
कोरोना मुक्त 19,351, मृत्यु 482, कुल संख्या 23,812
युसूफ शेख । हीरो बोधा

उल्हासनगर मनपा ने गणेशोत्सव 2020 की गाईडलाईंस जारी की 
उल्हासनगर। उल्हासनगर महानगरपालिका द्वारा 22 अगस्त से शुरू होने वाले गणेशोत्सव 2020 के लिए गाईडलाईन्स जारी की है। जिसके अनुसार सार्वजनिक गणेश मंडल को 4 फुट से ऊंची मूर्ति की स्थापना नहीं करनी है और घरगुत्ती गणपति 2 फुट से ऊंची नहीं होगी। सार्वजनिक गणेश मंडलों से अपील की है कि मनपा की बेवसाईट से आनलाईन अनुमति लेना अनिवार्य है। http://umcfestival.org.in इस बेवसाईट पर गणेश मंडलों की अर्जी स्वीकार की जाएगी। कोरोना महामारी के कारण इस गणेशोत्सव में कई नियम बनाए गए हैं जिसमें ज्यादा भीड़ न करना ईको फ्रेंडली गणेश प्रतिमा स्थापना करना, मास्क व सामाजिक दूरी के तहत उत्सव मनाना जैसी प्रमुख बातें इसमें कही गई है। प्रसाद वितरण ना करें, फूल व हार न चढ़ाए। सार्वजनिक गणपति मंडल में 10 मंडल कार्यकर्तार्ओं से ज्यादा आरती के दौरान खड़े न रहे। मंडलों द्वारा गणेशोत्सव में कोरोना हेतु जनजागरण करें, रक्तदान शिविर व आरोग्य शिविर सहित अंटीजन टेस्टींग कैम्प रखे। किसी भी प्रकार की मंडल की प्रसिद्धी पर मनाई है। ध्वनी प्रदूषण करने वालों पर पुलिस प्रशासन द्वारा कार्रवाई की जाएगी। विसर्जन के दौरान केवल 5 लोग ही मास्क के साथ मौजूद होने चाहिए। घरगुत्ती गणेशोत्सव के लिए कहा गया है बाहर के 3 से ज्यादा व्यक्ति नहीं होनी चाहिए। घरों में ईको फ्रेंडली गणेश मूर्ति स्थापित कर घरों में ही विसर्जन करें। सील की हुई इमारत के निवासयों को बाहर विसर्जन की अनुमति नहीं दी जाएगी। विसर्जन के लिए स्थानीय प्रभाग समिति में सार्वजनिक व घरगुती गणेशमूर्ति की सूचना देना आवश्यक है। इस तरह की गाईडलाईन्स मनपा आयुक्त डाॅ. राजा दयानिधी ने जारी की है जिसकी काॅपी नीचे दिए गए चित्र में दी गई है। इस बार का गणेशोत्सव सार्वजनिक व घरगुत्ती के लिए आसान नहीं होगा ज्यादातर मंडलों ने इस बार उत्सव न मनाने की घोषणा की है। 
बारवी डैम में 63.28 प्रतिशत पानी
बदलापुर। चार दिनों से हो रही दमदार बरसात के कारण बारवी डैम में 14 प्रतिशत पानी बढ़ गया है। बारवी डैम में शुक्रवार तक 63 प्रतिशत पानी जमा हो गया है। अंबरनाथ में 48.4, उल्हासनगर में 74.3, कल्याण में 40.7 मि.मि. बरसात हुई है। बुधवार को जोरदार बारिश हुई, गुरुवार को कुछ देर के लिए बारिश को विश्राती किया शुक्रवार को फिर दमदार बोरिश होने से बारवी डैम में पांच दिनों में 14 प्रतिशत पानी बढ़ा है। इस वर्ष मानसून सही समय पर शुरू हुआ लेकिन जुलाई में बारिश ज्यादा नहीं हुआ जिसके कारण बारवी डैम में पांच दिनों पूर्व तक 49 प्रतिशत पानी था गत वर्ष अगस्त के पहले हफ्ते में ही डैम छलक गया था लेकिन अगस्त महिने में दमदार बरसात होने से अब डैम में 63 प्रतिशत पानी है। पानी का स्टोरेज 214.41 एमसीएम हो गया है। गुरुवार को डैम के कॅचमेंट एरिया में 53.50 एमएम बारिश हुई है। यहां पर कुल 1284.50 एमएम बारिश हुई है। ऐसी जानकारी बारवी डैम के अभियंता कुंभार द्वारा दी गई है। अच्छी बारिश होने से शहर में ये बार बार अफवाह फैल जाती है कि बारवी डैम ओवर फ्लो हो गया है लेकिन डैम 63.28 प्रतिशत ही भरा है। 
उल्हासनगर में आज 77 हुए डिस्चार्ज, 5 की मौत
उल्हासनगर। उल्हासनगर महानगरपालिका क्षेत्र में अगस्त माह के दौरान ही शहर कोरोना मुक्त हो जाएगा। क्योंकि यहां पर रोजाना नए मरीज के मुकाबले डिस्चार्ज मरीजों की संख्या में बढ़ोत्तरी देखी जा रही है। मनपा प्रशासन का कहना है कि कोविड टेस्ट न होने के कारण मरीजों की संख्या में कमी आयी है अगर शहरवासी टेस्ट कराएंगे तो यह संख्या बढ़ेगी। आज 93.72 प्रतिशत रिकवरी रेट के साथ अब कोरोना के केवल 285 एक्टिव मरीज ही रह गए हैं। जिसमें से 81 मरीजों का ईलाज शहर के बाहर के अस्पतालों में चल रहा है वहीं 43 होम आयसोलेशन में तो निजी व सरकारी अस्पताल तथा कोविड सेंटर में 161 मरीजों का ईलाज चल रहा है। आज गुरुवार को कोरोना से पांच मरीजों की मौत के बाद मरने वालों की कुल संख्या अब 173 हो गई है। आज 77 मरीजों के डिस्चार्ज होते ही कोरोना मुक्त मरीजों की संख्या अब 6840 हो गई है। गुरुवार को 40 नए पाॅजिटीव मरीजों के मिलते ही कोरोना ग्रस्त मरीजों की कुल संख्या अब 7298 हो गई है।
अंबरनाथ के वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक संजय धुमाल को राष्ट्रपति पदक
धुमाल को अब तक 505 रिवार्ड मिल चुके हैं
अंबरनाथ। अंबरनाथ पुलिस स्टेशन के वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक संजय धुमाल को केंद्रीय गृह मंत्रालय ने राष्ट्रपति पुलिस पदक देकर सन्मान करने की घोषणा की है। महाराष्ट्र राज्य में केवल पांच पुलिस कर्मियों को ये पदक दिए जाने की घोषणा की गई है। इस घोषणा के बाद अंबरनाथ पुलिस स्टेशन एवं पूरे शहर में खुशी की लहर दौड़ गई है। अंबरनाथ के लगभग सभी नेताओं, पत्रकारों, सामाजिक कार्यकर्ताओं, पुलिस स्टाॅफ ने संजय धुमाल को पुष्पगुच्छ देकर उन्हें बधाई दी। पुलिस स्टेशन के स्टाॅफ ने लोगों में मिठाईयां बांटकर खुशी का इजहार किया। संजय धुमाल ने 16.9.2019 को अंबरनाथ पुलिस स्टेशन का चार्ज संभाला। पुलिस सेवा के 29 वर्ष के कार्यकाल में उन्हें 505 रिवार्ड मिले हैं। सन 2018 में उन्हें पुलिस पदक से सन्मानित किया गया। पुलिस महासंचालक मुंबई की ओर से उन्हें विशेष सन्मानचिन्ह प्राप्त है। 1993 में वह पु.उपनिरीक्षक पद से चुने गए। उन्होंने अकोला, अमरावती, पुणे, ठाणे ग्रामीण में कार्य किया है। 2012 में पुलिस निरीक्षक नियुक्त हुए संजय धुमाल को महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एवं राज्यपाल के हाथों बहुत जल्द राष्ट्रपति पदक प्रदान किया जाएगा। विधायक किणीकर, राकांपा अध्यक्ष पाटील, मुस्लिम समाज, राजू वालेकर, उमेश पाटील, हसमुख हरिया, पत्रकार युसूफ शेख, निसार खान, विश्वनाथ पनवेलकर, आसीफ खान, आबीद शेख ने उनका सत्कार करके बधाई दी है।
अंबरनाथ में अब तक 3915 कोरोना मुक्त
अंबरनाथ। अंबरनाथ में 14 अगस्त को 32 कोरोना बाधित मिले हैं। कुल संख्या 4425 हो गई है। अंबरनाथ में रिकवरी रेट बहुत अच्छा हो गया है अब तक 3915 रोगी कोरोना को मात देकर घर गए है। मरीजों का रिकवरी रेट 88.47 प्रतिशत हो गया है। मृतकों की कुल संख्या 171 ही है। प्रतिशत 3.86 हो गया है।  कोरोना का उपचार 339 मरीज ले रहे हैं एक्टिव मरीजों का प्रतिशत 7.66 है अब तक शहर में 11165 लोगों ने कोरोना कोविड 19 का चेकअप कराया है। आज 140 की जांच रिपोर्ट मिली है जिसमें 32 पाॅजिटीव पाए गए हैं। एंटीजन टेस्ट भी किया जा रहा है। डेंटल कोविड अस्पताल में 105 मरीज उपचार ले रहे हैं आज 32 में से पूर्व में 20 और पश्चिम में 12 कोरोना पाॅजिटीव मिले हैं। 
बदलापुर में आज 59 नए पाॅजिटीव
बदलापुर। कुलगांव-बदलापुर नगरपारिषद क्षेत्र में शुक्रवार को 59 नए पाॅजिटीव मरीज मिले हैं जिससे कोरोना ग्रस्त मरीजों की कुल संख्या अब 3335 हो गई है। यहां पर मृतकों का 1.77 प्रतिशत के साथ कुल मरने वालों की संख्या 59 है। यहां पर 87.59 प्रतिशत मरीज ठीक हुए हैं 2921 मरीज कोरोना मुक्त अब तक हो चुके हैं। 10.64 प्रतिशत के साथ एक्टिव मरीजों की कुल संख्या अब केवल 355 रह गई है। जिनका ईलाज विभिन्न अस्पतालों में चल रहा है। अब तक 5112 लोगों का स्वेब टेस्ट हुआ है। आज 84 स्वेब की रिपोर्ट में 25 नेगेटिव और 59 पाॅजिटीव पाए गए हैं।
कल्याण-डोंबिवली क्षेत्र में आज 265 पाॅजिटीव
कल्याण। कल्याण डोम्बिवली महानगरपालिका में शुक्रवार को कुल 265 कोरोना संक्रमित मरीजो की पुष्टि की गई जिसके साथ ही कोरोना संक्रमितों की कुल संख्या 23,812 तक जा पहुची है इनमें 3979 मरीजो का उपचार चल रहा है तो वही 19,351 मरीज डिस्चार्ज हो चुके है वही आज 7 लोगो की मौत हो गयी इस आंकड़े के बाद मरनेवालों की संख्या बढ़कर 482हो गयी है 481 मरीज पिछले 24 घंटे के भीतर विभिन्न अस्पतालों व कोरंटाइन सेंटर से डिसचार्ज भी हुए है मनपा क्षेत्र के कल्याण पूर्व में 37, कल्याण पश्चिम में 47, डोंबिवली पूर्व में 91, डोंबिवली पश्चिम में 63, मांडा टिटवाला में 21 तथा मोहना में 6 नया मरीज कोरोना संक्रमित पाया गया है।
उल्हासनगर मनपा द्वारा गणपती मंडल और घरेलु गणेशउत्सव के लिये मार्गदर्शक सूचनाएं...
कोरोना संक्रमण का असर जिंदगी के हर पहलू पर पड़ रहा है. यहां तक कि धर्म और आस्था भी इससे अछूते नहीं रहे. महाराष्ट्र में गणेश उत्सव हर परिवार की पारंपरिक पूजा है. इसके अलावा महाराष्ट्र का गणेश उत्सव पूरी दुनिया में मशहूर है. इस बार कोरोना संक्रमण को देखते हुए इस पर संकट के बादल मंडरा रहे हैं लेकिन सरकार ने इसके लिए गाइडलाइंस जारी कर दी हैं, जिसे ध्यान में रखते हुए पूजा की जा सकेगी.
गाइडलाइंस में इस पर जोर दिया गया है कि भगवान गणेश की प्रतिमा की अधिकतम ऊंचाई कितनी होगी. सार्वजनिक स्थानों पर जो मूर्ति रखी जाएगी, उसकी ऊंचाई 4 फीट होगी जबकि घरों में इसे 2 फीट तक रखना है.
उल्हासनगर मनपा आयुक्त द्वारा आदेश नुसार सार्वजनिक गणेश उत्सव के लिये गणेश मंडलो ने प्रभाग समिती द्वारा परमिशन लेना आवश्यक है,
परमिशन लेने के लिये उमनपा द्वारा ज़ारी वेबसाइट 
पर ऑनलाइन निवेदन करना होगा,
संभव हो सके तो गणेश विसर्जन पर रोक रहेगी या इसे अगले साल किया जा सकता है. इसके साथ ही पूजा पंडालों में भव्य सजावट से भी बचना है.
कोरोना संक्रमण को देखते हुए लोगों से अपील की है कि महोत्सव के दौरान गाइडलाइंस का पूरा पालन करें. कोरोना महामारी को देखते हुए महाराष्ट्र में इस बार साधारण स्तर पर महोत्सव मनाने का फैसला किया गया है.
जारी गाइडलाइन ये है-
1-पूजा से पहले सभी गणेश मंडलों को नगर निगम और स्थानीय प्रशासन ने अनुमति लेनी होगी.
2-कोरोना संक्रमण को देखते हुए कोर्ट और मनपा के आदेशों का पालन करते हुए सीमित संख्या में पंडाल  बनाए जाएंगे. पूजा साधारण ढंग से कम से कम भव्य सजावटों के बीच की जाएगी.
3-सार्वजनिक स्थानों पर रखी जाने वाली प्रतिमा की ऊंचाई 4 फीट जबकि घरों में इसकी अधिकतम ऊंचाई 2 फीट रहेगी.
4-मेटल, मार्बल की मूर्तियों पर जोर. मूर्तियां एनवायरनमेंट फ्रेंडली हों और घर में ही विसर्जित की जाएं. घर में संभव न हो तो घर के निकट ही किसी बनाए गए स्थान पर विसर्जित की जाएं. इस साल इस पर रोक भी लगाई जा सकती है और अगले साल भाद्रपद में विसर्जन का काम किया जा सकता है.
5-अपनी इच्छा से पूजा के चंदे लिए जा सकते हैं. विज्ञापन हो लेकिन इसमें लोगों को भीड़ जुटाने की अपील नहीं होनी चाहिए. जो भी विज्ञापन दिए जाएं, उन्हें स्वास्थ्य और सामाजिक संदेशों पर केंद्रित रखा जा सकता है.
6-पूजा के दौरान सांस्कृतिक कार्यक्रमों के बजाय स्वास्थ्य से जुड़ी गतिविधियां की जा सकती हैं. जैसे कि रक्तदान कैंप आयोजित किए जाएं या कोरोना, मलेरिया, डेंगू की बीमारियों से बचने के उपाय को लेकर जागरूकता अभियान चलाया जाए.
7-आरती, कीर्तन और अन्य धार्मिक कार्यक्रम के दौरान लोगों की भीड़ जमा न हो और सामाजिक दूरी के नियमों का उल्लंघन न किया जाए. ध्वनि प्रदूषण पर भी पूरा ध्यान देना होगा.
8-भगवान गणेश के दर्शनों के लिए ऑनलाइन इंतजाम किए जाएं, जिसके लिए केबल नेटवर्क और फेसबुक जैसे माध्यमों का सहारा लिया सकता है.
9- गणपति मंडप का सैनिटाइजेशन होते रहना चाहिए और थर्मल स्क्रीनिंग का भी इंतजाम होना चाहिए. श्रद्धालुओं को मास्क लगाना और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना जरूरी होगा. मंडपों में सैनिटाइजर की भी व्यवस्था होनी चाहिए.
10-श्री गणेश भगवान के आगमन और विसर्जन का जुलूस कार्यक्रम नहीं होगा. विसर्जन के स्थान पर जो आरती की जाती है, वह घर में ही की जाएगी और विसर्जन स्थल को कम समय में भी बंद कर दिया जाएगा. बच्चे और बुजुर्ग विसर्जन स्थल पर नहीं जाएंगे. विसर्जन के लिए एक साथ कई मूर्तियां बाहर नहीं निकाली जाएंगी.
11-नगर निगम, अलग-अलग बोर्ड, हाउसिंग सोसायटी, जनप्रतिनिधि और एनजीओ की मदद से कृत्रिम झीलें बनाई जाएगी जिसमें मूर्ति विसर्जन का कार्यक्रम होगा,
उपरोक्त सभी सूचनाओं का पालन करके उल्हासनगर मनपा को सहकार्य करें ऐसा निवेदन उमनपा आयुक्त डॉ राजा दयानिधि द्वारा किया गया है।
Download Ulhasnagar Municipal Corporation CORONA Press Note 

[blogger]

Author Name

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.