"उल्हास विकास" ठाणे जिले का पहला हिन्दी न्यूज एंड्रॉयड मोबाइल ऐप बना
Click on the Image to Download the App from Google Play Store

andriod app

अंबरनाथ, उल्हासनगर, बदलापुर की दुकानें 1 जून से खुलेंगी?

प्रांत अधिकारी ने जिलाधिकारी को भेजा प्रस्ताव
लॉकडाऊन 5.0 में मिलेगी छूट?
  अंबरनाथ। अंबरनाथ, उल्हासनगर और बदलापुर शहर की जीवनावश्यक वस्तुओं की दुकानों के साथ अन्य दुकानें शुरू करने का प्रस्ताव प्रांत अधिकारी जगतसिंग गिरासे ने ठाणे जिलाधिकारी राजेश नार्वेकर को भेजा है। लॉकडाऊन को 75 दिन हो गए हैं। तभी से ये दुकानें बंद हैं। कपड़े, चप्पल, घरगुती इस्तेमाल व अन्य साहित्य की दुकानें किन नियमों एवं शर्तों के साथ खोली जाएं इस पर राय मांगी गई है। शहरवासियों के लिए गत ढाई महिने से कपड़े, चप्पल, इलेक्ट्रानिक्स वस्तु, प्लास्टिक ताडपत्री, गृहोपयोगी वस्तु, हार्डवेयर, बांधकाम साहित्य की दुकानें, चश्मा, स्कूल साहित्य, खाद्य पदार्थ, बिक्री की दुकानें बंद होने से परेशानी हो रही है। दुकानदारों का ये भी कहना है कि ढाई महिने से दुकानें बंद होने के कारण उनके सामान खराब हो रहे हैं। अंबरनाथ, उल्हासनगर के व्यापारी संघटनाओं ने बार-बार पत्र देकर ये मांग की है कि जीवन आवश्यक वस्तुओं की दुकानों के साथ अन्य दुकानें भी नियमों के साथ खोलने की इजाजत दी जाए। इसी मांग को लेकर प्रांत अधिकारी ने जिलाधिकारी से राय मांगी है।
  विदित हो कि उल्हासनगर के प्रांत अधिकारी गिरासे अबंरनाथ व बदलापुर के प्रशासकीय अधिकारी भी हैं। उल्हासनगर महानगरपालिका, अंबरनाथ एवं बदलापुर नपा की दुकानें कोरोना ससंर्ग नियमों का पालन करते हुए शुरू किए जाने का प्रस्ताव प्रस्ताव जिलाधिकारी को भेजा गया है। उपरोक्त दुकानें शुरू होने से शहरवासियों को मानसून शुरू होने से पूर्व जरूरी साहित्य मिल सकेंगे। तीनों शहर के कुछ दुकानदार चोरी छिपे आधा शटर डाऊन करके डरते हुए मामूली व्यापार कर रहे हैं तो कुछ दुकानदार रोजाना अपनी दुकानों के समक्ष ये सोचकर आकर खड़े हो जाते हैं कि अभी आर्डर आएगा तो वह अपनी दुकानें खोलेंगे। आशा की जा रही है कि दुकानें नियमों व शर्तों के अनुसार एक जून से शुरू होंगी। वहीं महाराष्ट्र में कोरोना की गंभीर स्थिति को देखते हुए लॉकडाऊन 5.0 भी देखने को मिल सकता है। अभी भी जनजीवन सामान्य होने में जून का महिने भी गुजर सकता है।
[blogger]

Author Name

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.